शुक्रवार, 11 दिसंबर 2009

श्रावस्ती एक नजर में ...

इतिहास - कहा जाता है किश्रावस्ती की खोज गणितग्य श्रावस्त ने की थी । यह ६ ठवी सदी ईसापूर्व से ६वी ई० तक कौशल की राजधानी रहा है। यह शर राप्ती नदी के किनारे बसा है तथा महात्मा बुद्ध का धार्मिक स्थल होने के कारण श्रावस्ती विश्व स्तर पर महत्व रखता है।
माना जाता है कि यही पर महत्मा बुद्ध ने अंगुलीमाल को उपदेश दिए थे जिससे उससे ज्ञान प्राप्त हुआ और उसने बुरे कम करने छोड़ दिए थे। यह स्थल बौद्ध धर्म का धार्मिक स्थल माना जाता है।
वर्त्तमान में श्रावस्ती- एक जिले के रूप में श्रावस्ती उत्तेर प्रदेश की तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती जी की देन है, २२मई १९९७ को श्रावस्ती जिले का गठन किया गया तथा इसका मुख्यालय भिनगा निर्धारित किया गया यह जिला देविपतान्मंडल के अंतर्गत आता है।
उत्तेर प्रदेश के ७१ जिलो में से एक श्रावस्ती जिले का क्षेत्रफल १८५८.२०स्कुवर किमी है । कुल जनसंख्या लगभग ८५५९८९ तथा शिक्षा का प्रतिशत २४.९% है कुल जनसंख्या में से १५६४३० पुरूष शिक्षित है और ४९३९० महिलाये शिक्षित है ...
आगे फिर कभी ,,,........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें